Home>>Uncategorized>>बिना पंजियन के संचालित नर्सिंग होम एंव पैथालॉजी
Uncategorized

बिना पंजियन के संचालित नर्सिंग होम एंव पैथालॉजी

फतेहपुर/संवाददाता
उत्तर प्रदेश में इस समय झोलाछाप डॉक्टर की भरमार हो गई। जैसे ही गर्मी का समय आता है। तो झोला छाप डॉक्टरों की दुकान जगह जगह पर खुल जाती हैं। जैसे ही नवरात्रि के बाद ठंडी का समय आता है। तो झोलाछाप डॉक्टरों की दुकानें बंद हो जाती हैं। झोलाछाप डॉक्टर पढ़े लिखे हुए एमबीबीएस डॉक्टरों की डिग्री एग्रीमेंट के तौर पर किराए में लेकर झोलाछाप डॉक्टर अपनी दुकान जगह जगह पर खोल कर बैठ जाते हैं। एमबीबीएस डॉक्टर का नाम अपनी दुकान के बाहर एक बोर्ड में बड़े बड़े अक्षरों से लिखवा देते हैं। उनके नाम पर झोलाछाप डॉक्टर की फौज फिर अपनी मौज करने लगती है। झोलाछाप डॉक्टर आसपास क्षेत्र की आशा बहुओं को एक बड़ा सा लॉलीपॉप देते हुए छोटा सा फार्मूला बताते हैं कि हमारे यहां अगर आप कोई भी मरीज लाती है। तो उस मरीज का 40 प्रतिशत कमीशन आपको दिया जाएगा। इस बड़े लॉलीपॉप का नियम समझ कर आशा बहू अपने अपने क्षेत्र की गर्भवती महिलाओं को प्रसव के दौरान सरकारी अस्पताल में न ले जाकर अपने कमीशन के लालच मे अपने गर्भवती महिला व उसके परिवार को अपनी मीठी मीठी बातों पर फंसा कर कमीशन देने वाले प्राइवेट नर्सिंग होम में ले जाकर प्रसव के लिए भर्ती करवा देती हैं। जहां झोलाछाप डॉक्टरों की फौज एसे लोगों का इंतजार कर रही होती है। कि कब नया मुर्गा हमारे जाल में फंसे और हम उसको हलाल कर सकें। ताजा मामला उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जनपद का है। फतेहपुर जनपद के जिला अस्पताल के मुख्यालय पर कुछ ही दूरी पर तांबेश्वर के समीप विकास नर्सिंग होम एंव प्रसव केन्द्र , अंश पैथोलॉजी व प्रिंस पैथोलॉजी का है। मिली जानकारी के अनुसार झोलाछाप डॉक्टरों की फौज फतेहपुर जनपद में जगह जगह पर अपनी दुकान खोल कर मौज कर रही है। झोलाछाप डॉक्टर एमबीबीएस डॉक्टर की डिग्री किराए में खरीद कर अपनी दुकान के बाहर बड़े बड़े अक्षरों से एमबीबीएस डॉक्टर के नाम पर दुकान खोल कर बैठ जाते हैं। झोलाछाप डॉक्टर की दुकान का संचालन कोई एमबीबीएस डॉक्टर नहीं करता है। झोलाछाप डॉक्टर अपनी दुकान का संचालन स्वयं ही करता है। विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र ,अंश पैथोलॉजी व प्रिंस पैथोलॉजी मुख्य चिकित्सा अधिकारी के यहाँ बगैर पंजीयन के दौड़ रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विकास नर्सिंग होम में हाल ही में कुछ महीनों पहले एक आशा बहू अपने नजदीकी क्षेत्र की गर्भवती महिला को कमीशन के लालच में प्रसव के लिए विकास नर्सिंग होम एंव प्रसव केन्द्र में भर्ती कराया था। परंतु गर्भवती महिला को नॉर्मल डिलीवरी हुई। जहाँ झोलाछाप डॉक्टरों ने नॉर्मल डिलीवरी के बाद ऑपरेशन से हुई डिलीवरी का पर्चा बनाकर मोटी रकम ऐंठने के चक्कर में कुछ दिनों के लिए भर्ती किया था। गर्भवती महिला को भर्ती के दौरान मृत्यु हो गई थी। मृत्यु के बाद मृतिका के परिजनों ने विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र के बाहर जमकर हंगामा भी काटा था। उसके बाद विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र के संचालक अपनी दुकान का शटर बंद कर नदारद हो गए थे। उसके कुछ ही दिनों बाद झोलाछाप डॉक्टर फिर से विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र की दुकान का शटर खोलकर फिर से मौत का खेल खेलना शुरू कर दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र के संचालक के पास फिजियोथैरेपिस्ट की डिग्री है। नर्सिंग होम के संचालक एमबीबीएस डॉक्टर की डिग्री किराए में खरीद कर दुकान के बाहर डॉक्टर का नाम व अन्य डॉक्टरों का नाम लिखकर अपनी दुकान का संचालन कर रहे हैं। आसपास की क्षेत्र की आशा बहुओं को 40% का कमीशन की लालच देकर आशा बहू को अपने अपने क्षेत्र की गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए भर्ती करने का लॉलीपॉप भी देते हैं। वही नर्सिंग होम के झोलाछाप संचालक बगैर पंजीयन की अंश पैथोलॉजी भी संचालित करवा रहे है। वही विकास नर्सिंग होम के कुछ दूरी पर ही एक प्रिंस पैथोलॉजी बगैर पंजीयन के धड़ल्ले से संचालित हो रही है।
क्या बोले जिम्मेदार
डिप्टी सीएमओ संजय सिंह ने बताया कि विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र,अंश पैथोलॉजी व प्रिंस पैथोलॉजी का इस नाम का हमारे यहां कोई भी पंजीयन नहीं है। सूचना मिलने पर नर्सिंग होम एवं पैथोलॉजी को नोटिस जारी कर दी गई है। 2 दिन की हिदायत भी दी गई है कि सोमवार तक नर्सिंग होम एवं पैथोलॉजी को बंद रखे। एवं अपने पंजीयन कागज लेकर चिकित्सालय मुख्यालय आएं। परंतु डिप्टी सीएमओ संजय सिंह के नोटिस जारी करने के दौरान हिदायत भी दी। कि विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र, प्रिंस पैथोलॉजी व अंश पैथोलॉजी
बंद करके अपनी दुकान का पंजीयन मुख्य चिकित्सा अधिकारी के यहां लेकर आएं। परंतु झोलाछाप डॉक्टर विकास नर्सिंग होम एवं प्रसव केंद्र के संचालक डिप्टी सीएमओ के आदेश को नजरअंदाज करते हुए धड़ल्ले से अपना नर्सिंग होम संचालित कर रहे हैं। यही हाल प्रिंस पैथोलॉजी एवं अंंश पैथोलॉजी का है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: https://www.aapkikhabre.in/