Home>>Uncategorized>>ग्राम सभा के लेखपाल को प्रधान पति ने बेइज्जत करने की धमकी दी
Uncategorized

ग्राम सभा के लेखपाल को प्रधान पति ने बेइज्जत करने की धमकी दी

फतेहपुर नि.सं.
फतेहपुर जिले में एक ऐसा भी प्रधान पति जिसकी दबंगई के चर्चे जिले में जोरों और शोरों से हैं। आपको बातते चले कि मलाका ग्राम सभा के प्रधान बेला देवी के पति रामचंद्र विश्वकर्मा तथा बीडीसी लाल सिंह पासवान ने अपने ग्राम सभा में पशु चर की जमीन में अवैध तरीके से प्लाटिंग कर लोगों को जमीन बेचने का काम किया है। जब इस बात की जानकारी क्षेत्रीय लेखपाल विवेक तिवारी को लगी तो उन्होंने गाजीपुर थाने में तीनों अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराया है इसी बात की जानकारी करने के लिए संवाददाता ने जब प्रधान पति से दूरभाष के जरिए बात की तो प्रधान पति मुकदमा पंजीकृत होने की बौखलाहट में अपना आपा खो बैठे और कहने लगे कि लेखपाल की हिम्मत नहीं है कि वह उसके गांव में आ जाए और यदि वह उसके गांव में आ जाता है। तो ग्राम सभा की लम सम 200 महिलाओं से मिलकर लेखपाल को पूरे गांव में दौड़ा-दौड़ा कर मारा जाएगा। अब सोचने वाली बात यह है कि जब क्षेत्रीय लेखपाल को प्रधान इस तरीके की अभद्र भाषा का प्रयोग कर सकता है। तो ग्रामीणों में क्या हलचल मचा रखी होगी। रही बात बीडीसी की तो गांव की ही पशू चर की जमीन में गाटा संख्या 816 गाजीपुर मार्ग में बी डी सी ने अपनी सुंदर बिल्डिंग बना रखी है यह भी कह सकते हैं। कि प्रधान के इशारे पर बीडीसी ने पशुचर की जमीन पर अपने बिल्डिंग बनाई है वहीं ग्राम प्रधान पति रामचंद्र विश्वकर्मा ने क्षेत्रीय लेखपाल को बलात्कार जैसी धाराओं में फंसाने की धमकी भी दे डाली और उल्टा झूठा आरोप क्षेत्रीय लेखपाल के ऊपर लगाया कि क्षेत्रीय लेखपाल ने लोगों से पैसा लेकर गांव की जमीन देने का काम किया है। बल्कि कुछ ग्रामीणों ने यह भी बताया कि प्रधान पति द्वारा 50 हजार रुपये देकर उन्हें ग्राम सभा में मकान बनाने की अनुमति दी गई है। जो कि प्रधान पति ने पैसे लेकर अपनी देखरेख में मकान बनवाने का कार्य बखूबी निभाया था परंतु लेखपाल की ईमानदारी के चलते दोनों बार दूसरे ग्राम सभा के लोगों द्वारा मकान बनवाने पर क्षेत्रीय लेखपाल ने उनके मकान को गिरवाने का काम बखूबी किया है। ऐसे भ्रष्ट प्रधान व प्रधान पति तथा बीडीसी के ऊपर यदि जांच कर उन्हें जेल भेजने का काम नहीं किया गया तो ग्राम सभा की सारी जमीनों को हड़प जाएंगे और आने वाले समय में सरकारी कर्मचारी सरकारी जमीन को खोजते रह जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: https://www.aapkikhabre.in/